डैन कोलोव-निकोला पेट्रोव 2022 रेसलिंग टूर्नामेंट में भारतीय पहलवानों ने जीते 16 पदक

भारतीय पहलवानों ने साल के पहले टूर्नामेंट में एक स्वर्ण, नौ रजत और छह कांस्य पदक जीते। रवि कुमार दहिया ने रजत पदक जीता, जबकि दीपक पूनिया ने कांस्य पदक जीता।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट 2015 Getty Images

भारतीय पहलवानों ने रविवार को बुल्गारिया में डैन कोलोव-निकोला पेट्रोव 2022 रेसलिंग टूर्नामेंट में पांच और पदक जीतने के साथ कुल 16 पदकों (एक स्वर्ण, नौ रजत और छह कांस्य) के साथ इस चार दिवसीय इवेंट के अपने सफर को समाप्त किया।

प्रतियोगिता के अंतिम दिन ग्रीको-रोमन पहलवान साजन को 77 किग्रा फाइनल में बुल्गारिया के ऐक मनत्सकानियन के द्वारा पिन किए जाने के बाद उन्हें रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा।

इस बीच, नीलम और श्रीष्टि को भी उनके प्रतिद्वंद्वी पहलवानों ने क्रमश: वूमेंस 50 किग्रा और 57 किग्रा के फाइनल में हरा दिया।

भारत ने अंतिम दिन दो कांस्य पदक भी हासिल किए।

ग्रीको-रोमन पहलवान अजय ने 55 किग्रा में पोडियम पर अंतिम स्थान हासिल किया, जबकि संजीत मेंस 86 किग्रा फ्रीस्टाइल में तीसरे स्थान पर रहे।

इस साल पहली बार प्रतिस्पर्धा करते हुए भारतीय पहलवान डैन कोलोव-निकोला पेट्रोव 2022 में नौ रेसलिंग कैटेगरी में स्वर्ण पदक के मुकाबले में पहुंचने में सफल रहे, लेकिन उनमें से प्रत्येक अंतिम मुकाबले में हार गए।

इससे पहले टोक्यो ओलंपिक रजत पदक विजेता रवि कुमार दहिया भी मेंस 61 किग्रा फ्रीस्टाइल डिवीजन में दूसरे स्थान पर रहे थे, जबकि वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता दीपक पूनिया ने मेंस 92 किग्रा फ्रीस्टाइल में कांस्य पदक जीता।

संजू देवी डैन कोलोव-निकोला पेट्रोव 2022 में स्वर्ण पदक जीतने वाली एकमात्र भारतीय रहीं, जो वूमेंस 55 किग्रा वर्ग में शीर्ष पर रहीं।

यह टूर्नामेंट तुर्की के इस्तांबुल में होने वाले यासर डोगू रैंकिंग सीरीज़ के लिए तैयारी करने वाले मुकाबले के तौर पर काम करता है, जो 24 फरवरी से शुरू होंगे।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स