कॉमनवेल्थ गेम्स 2022, महिला हॉकी: भारत को शूटआउट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मिली हार

ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारत को शूटआउट में 3-0 से हराया और भारत अब न्यूजीलैंड के खिलाफ कांस्य पदक मैच खेलेगा।

लेखक रौशन कुमार
फोटो क्रेडिट 2022 Getty Images

ब्रिटेन के बर्मिंघम में जारी राष्ट्रमंडल खेल 2022 में शुक्रवार को भारतीय महिला हॉकी टीम और आस्ट्रेलिया के बीच नियमित समय में 1-1 के स्कोर के बाद मैच शूटआउट में चला गया। जहां ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारत को 3-0 से हराकर फाइनल में जगह बनाई।

इस तरह भारत अब अपने ब्रॉन्ज मेडल मैच में न्यूजीलैंड से भिड़ेगा तो दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया फाइनल में इंग्लैड के खिलाफ खेलेगा।  

यूनिवर्सिटी ऑफ बर्मिंघम में खेले गए इस मुकाबले में भारत की ओर से वंदना कटारिया ने एकमात्र गोल किया। जबकि ऑस्ट्रेलिया की ओर से रेबेका ग्रीनर ने एक गोल किया। वहीं, शूटआउट में भारत एक भी गोल नहीं कर पाया और आस्ट्रेलियाई टीम ने तीन गोल दागे।  

सविता पूनिया की अगुवाई वाली भारतीय टीम ने सेमीफाइनल मुकाबले की धीमी शुरुआत की। खेल के शुरुआती कुछ मिनट तक ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने पोजेशन अपने पास रखी। इसके बाद भारतीय खिलाड़ियों ने गेंद को अपने कब्जे में किया और पहला पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया। 

हालांकि भारतीय खिलाड़ी इस अवसर को गोल में तब्दील करने में असफल रहे। दोनों टीमें अपने पहले गोल की तलाश में लगातार संघर्ष करती हुई दिखाई दीं लेकिन वूमेन इन यलो को पहली सफलता मिली। जब मुकाबले के 10वें मिनट में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी रेबेका ग्रीनर ने फील्ड गोल कर अपनी टीम का खाता खोला। 

पहले-क्वार्टर के अंत में बर्मिंघम 2022 की पूल-ए की टीम भारत ने एक और पेनल्टी कॉर्नर हासिल किया लेकिन वह ऑस्ट्रेलियाई पोस्ट को भेदने में नाकाम रहे और इसी के साथ खेल के पहले क्वार्टर का अंत हुआ।

बता दें कि टोक्यो 2020 में भारत ने ऑस्टेलिया की टीम पर 1-0 की जीत दर्ज कर सबको चौंका दिया था। एक बार फिर जेनेके शॉपमेन की टीम उसी प्रदर्शन को दोहराकर टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाने के लिए ऑस्ट्रेलिया की टीम के सामने चुनौती पेश कर रही थी।

खेल के दूसरे क्वार्टर में भारतीय टीम ने मैच में बराबरी करने का हर संभव प्रयास किया लेकिन वह असफल रही। इस क्वार्टर में वूमेन इन ब्लू को एक से अधिक पेनल्टी कॉर्नर के अवसर प्राप्त हुए लेकिन वह इसे भुनाने में सक्षम नहीं रहीं।

इससे पहले भारतीय महिला हॉकी टीम ने कनाडा को 3-2 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी।

खेल का तीसरा क्वार्टर विश्व रैंकिंग की छठे नंबर पर काबिज भारतीय टीम के लिए फाइनल में जगह बनाने के लिए बेहद महत्वपूर्ण था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के मजबूत डिफेंस के सामने भारतीय फॉरवर्ड खिलाड़ी गोल की तलाश में संघर्ष करते हुए दिखाई दिए। 

दूसरी ओर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने भारत पर लगातार दबाव बनाए रखा। हालांकि, भारतीय कप्तान सविता पूनिया ने बेहतरीन डिफेंस का मुजाहिरा पेश करते हुए विपक्षी टीम के कई प्रयास को असफल किया। 

मैच का अंतिम क्वार्टर रोमांच के चरम पर था। भारतीय महिला टीम के लगातर प्रयास ने उन्हें आखिरकार मैच में पहली सफलता दिला दी। भारतीय टीम की जर्सी नंबर 16

वंदना कटारिया ने खेल के 49वें मिनट में ऑस्ट्रेलियाई डिफेंस को चकमा देते हुए फील्ड गोल कर भारत की मैच में वापसी करवा दी।

इसके कुछ ही मिनट बाद भारत ने एक और पेनल्टी कॉर्नर अर्जित कर विपक्षी टीम को दबाव में डाल दिया। हालांकि भारत ने यह भी अवसर गवां दिया लेकिन मैच में अपनी पकड़ मजबूत कर ली। 

अब दोनों टीम के लिए खेल का एक-एक मिनट काफी अहम रहने वाला था क्योंकि दोनों टीम बराबरी पर थी और किसी भी टीम के लिए एक गोल भी फाइनल की राह तय कर सकता था। लेकिन टीमों के शानदार प्रयास के बावजूद मैच 1-1 के स्कोर के साथ शूटआउट में चला गया। जहां भारत को ऑस्ट्रेलिया के हाथों 3-0 से हार का सामना करना पड़ा।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स