कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 वेटलिफ्टिंग: संकेत महादेव सरगर ने सिल्वर के साथ भारत की झोली में डाला पहला पदक

संकेत सरगर ने पुरुषों के 55 किग्रा वर्ग में कुल 248 किग्रा भार उठाकर रजत पदक जीता। यह बर्मिंघम 2022 में भारत का पहला पोडियम फिनिश था।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट 2022 Getty Images

वेटलिफ्टर संकेत महादेव सरगर ने शनिवार को सोलिहुल में नेशनल एग्जिबीशन सेंटर (NEC) में पुरुषों के 55 किग्रा वर्ग में रजत पदक हासिल करते हुए राष्ट्रमंडल खेल 2022 में भारत के लिए पहला पदक जीता।

महाराष्ट्र के सांगली के एक किसान के बेटे संकेत सरगर ने बर्मिंघम 2022 में अपने भार वर्ग में जीत हासिल करने के लिए कुल 248 किग्रा (स्नैच - 113 किग्रा; क्लीन एंड जर्क - 135 किग्रा) उठाया।

मलेशिया के मोहम्मद अनिक बिन कसदन (249 किग्रा) ने संकेत सरगर से महज 1 किलोग्राम अधिक भार उठाते हुए स्वर्ण पदक जीता, जबकि श्रीलंका के दिलंका इसुरु कुमारा (225 किग्रा) ने कांस्य पदक जीता।

15 अगस्त को भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मनाई जाएगी। मैं अपना पदक उन बहादुरों को समर्पित करना चाहता हूं जिन्होंने हमें एक स्वतंत्र भारत और सभी को उनका घर वापस दिलाया।" - संकेत सरगर

फरवरी में सिंगापुर वेटलिफ्टिंग इंटरनेशनल में 256 किग्रा भार उठाकर राष्ट्रीय और राष्ट्रमंडल रिकॉर्ड तोड़ने वाले 21 वर्षीय संकेत ने अपने अभियान की शुरुआत स्नैच में 107 किग्रा के सफल प्रयास के साथ की और अपने दूसरे प्रयास में उन्होंने 111 किग्रा भार उठाया।

संकेत सरगर ने अपने तीसरे और अंतिम स्नैच प्रयास में 113 किग्रा वजन उठाया, जिससे उन्होंने अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ और स्नैच में भारतीय राष्ट्रीय रिकॉर्ड की बराबरी कर ली।

उनके बाद स्नैच में मोहम्मद अनिक बिन कसदन (107 किग्रा) और श्रीलंकाई भारोत्तोलक दिलंका इसुरु कुमारा (105 किग्रा) अगले दो सर्वश्रेष्ठ भार उठाने वाले वेटलिफ्टर रहे। वहीं जजों के पैनल ने श्रीलंका के 112 किग्रा के तीसरे प्रयास को रद्द कर दिया।

प्रतियोगिता के क्लीन एंड जर्क वर्ग में 11 सदस्यीय वेटलिफ्टरों का नेतृत्व करते हुए संकेत सरगर ने सफलतापूर्वक 135 किग्रा भार उठाया और अपने पहले ही प्रयास में पदक की उम्मीद को पक्का कर दिया।

अपने दूसरे प्रयास में 139 किग्रा का भार उठाते हुए संकेत सरगर ने अपनी कोहनी को अजीब तरह से मोड़ दिया। इससे उन्हें काफी चोट आई। इसके बावजूद, उन्होंने उसी वजन पर अपना तीसरा प्रयास किया। इस बार क्लीन करने में उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई लेकिन जर्क में दर्द की वजह से वह अपने अंतिम प्रयास को सही से करने में असफल रहे। उनके चेहरे पर दर्द साफ नजर आ रहा था।

हालांकि, इस प्रतियोगिता के अंतिम लिफ्ट तक भारतीय खिलाड़ी के स्वर्ण पदक जीतने की उम्मीद बरकरार थी। लेकिन पिछले साल ताशकंद में राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप जीतने वाले मोहम्मद अनीक ने संकेत सरगर को स्वर्ण पदक से दूर कर दिया। उन्होंने क्लीन एंड जर्क में 142 किलोग्राम उठाकर CWG रिकॉर्ड बनाते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम कर लिया।

संकेत सरगर ने इवेंट के बाद कहा, "मैं अभी मिलीजुली स्थिति में हूं, थोड़ा खुश और थोड़ा दुखी हूं। क्योंकि मुझे मनचाहा परिणाम नहीं मिला। मैं एक स्वर्ण पदक हासिल करना चाहता था, इसलिए मेरी टीम और मैं यहां प्रशिक्षण के लिए जल्दी आ गए थे। मैं थोड़ा निराश हूं, क्योंकि आखिरी कुल लिफ्ट में मुझे चोट से जूझना पड़ा। मुझे अपनी बांह में दो क्लिक की आवाज सुनाई दी, जो दर्दनाक थी। यह काफी निराशाजनक रहा, क्योंकि मुझे वह गोल्ड चाहिए था।”

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स