कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 बैडमिंटन: पीवी सिंधु ने कनाडा की मिशेल ली को हराकर जीता स्वर्ण पदक

पीवी सिंधु ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में महिला एकल बैडमिंटन में गोल्ड मेडल जीता। इसी के साथ वह CWG में तीनों रंग के पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला शटलर बन गई हैं।

लेखक रितेश जायसवाल
फोटो क्रेडिट 2022 Getty Images

शीर्ष भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने सोमवार को ब्रिटेन के बर्मिंघम में चल रहे राष्ट्रमंडल खेल 2022 में नेशनल एग्जीबिशन सेंटर में कनाडा की मिशेल ली को हराकर गोल्ड मेडल पर अपनी मुहर लगा दी।

बैडमिंटन विश्व रैंकिंग में सातवें स्थान पर काबिज पीवी सिंधु ने महिला एकल बैडमिंटन फाइनल में कनाडाई बैडमिंटन शटलर को 48 मिनट तक चले मुकाबले में सीधे गेम में 21-15, 21-13 से हराकर राष्ट्रमंडल खेल का पहला स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

पीवी सिंधु को 2018 में गोल्ड कोस्ट में साइना नेहवाल ने गोल्ड मुकाबले में हराया था। इससे पहले सिंधु ने 2014 राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीता था।

राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य और रजत पदक जीतने के बाद अब स्वर्ण पदक जीतकर पीवी सिंधु तीनों रंग के पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला शटलर बन गई हैं।

चोटिल बाएं पैर में स्ट्रैप बंधे होने के साथ खेल रही पीवी सिंधु को ज्यादा मूवमेंट करने में समस्या हो रही थी और इसलिए वह वर्ल्ड रैंकिंग में 13वें स्थान पर काबिज मिशेल ली के खिलाफ छोटी रैलियां खेलना चाहती थीं।

पीवी सिंधु ने क्रॉस-कोर्ट ड्रॉप शॉट और स्मैश का बेहतरीन प्रयोग किया और पहले गेम में ब्रेक तक 11-8 की बढ़त बना ली। पीवी सिंधु ने अपना ध्यान केंद्रित रखते हुए सटीक रिटर्न करना जारी रखा और कनाडाई शटलर की गलतियों का पूरा फायदा उठाया।

हालांकि, जब पीवी सिंधु 13-9 से आगे चल रही थीं, तब मिशेल ली ने 57-स्ट्रोक की रैली जीतकर अच्छा प्रदर्शन किया और वापसी करने की अच्छी कोशिश की। लेकिन पीवी सिंधु को रोकना काफी मुश्किल रहा और उन्होंने शानदार प्रदर्शन करते हुए दूसरा गेम भी जीत लिया।

यह पीवी सिंधु की इस साल मिशेल ली पर तीसरी जीत रही। वहीं, हेड-टू-हेड मुकाबलों की बात करें तो सिंधु ने 11 मुकाबलों में मिशेल ली पर यह नौवीं जीत दर्ज की।

पीवी सिंधु अब 21 अगस्त से टोक्यो में होने वाली बीडब्ल्यूएफ विश्व चैंपियनशिप 2022 की तैयारी करेंगी।

राष्ट्रमंडल खेल 2022 बैडमिंटन फाइनल तक का सफर तय करने से पहले राउंड ऑफ 64 में पीवी सिंधु को बाई मिला था। राउंड ऑफ 32 में उन्होंने मालदीव के अब्दुल रज्जाक फातिमथ नबाहा को 21-4, 21-11 से हराया था।

सिंधु ने राउंड ऑफ 16 में युगांडा की हुसीना कोबुगाबे को 21-10, 21-9 से हराकर क्वार्टर-फाइनल में जगह बनी थी, जहां उन्होंने मलेशिया की गोह जिन वेई को 19-21, 21-14, 21-18 से हराया था।

सेमीफाइनल में सिंधु ने सिंगापुर की येओ जिया मिन को 21-19, 21-17 से हराकर फाइनल में प्रवेश किया था।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स