कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स में गोल्ड के साथ ही 2022 में ऑल इंग्लैंड खिताब जीतने पर होगी पीवी सिंधु की नज़र

भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने खुद के लिए लक्ष्य तय कर लिया है। इस साल वो कई नई उपलब्धियां हासिल करते हुए अपने मेडल कैबिनेट में कई और मेडल्स को सजाने का इरादा रखती हैं। 

लेखक रौशन प्रकाश वर्मा
फोटो क्रेडिट Badminton Association of India (BAI)

पीवी सिंधु के मेडल कैबिनेट पर नज़र डालने भर से ही पता चल जाता है कि इस 26 वर्षीय बैडमिंटन खिलाड़ी का अब तक का करियर कितना शानदार रहा है।

दो ओलंपिक मेडल्स, 2019 में एक गोल्ड मेडल सहित वर्ल्ड चैंपियनशिप में कुल 5 मेडल्स, 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स में सिल्वर मेडल और एक BWF वर्ल्ड टूर फाइनल का खिताब, पीवी सिंधु की उपलब्धियों और उनके बेहद शानदार खेल की गवाही देता है।

ओलंपिक गोल्ड के अलावा, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल और प्रतिष्ठित ऑल इंग्लैंड ओपन का खिताब ही वो उपलब्धियां हैं जो अब तक सिंधु की पहुंच से दूर रहे हैं। हालांकि 2022 में पीवी सिंधु ने इन चार में से तीन मेडल्स जीतने का लक्ष्य तय किया है। 

पीवी सिंधु ने पीटीआई से बात करते हुए कहा, “इस साल मैं वर्ल्ड चैंपियनशिप के अलावा कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल के साथ एशियन गेम्स का खिताब और ऑल इंग्लैंड का खिताब जीतना चाहती हूं।”

इस साल ऑल इंग्लैंड ओपन का आयोजन मार्च में होगा, जबकि कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 इंग्लैंड के बर्मिंघम में जुलाई में शुरु होगा। वहीं अगस्त में आयोजित बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियनशिप के ठीक बाद सितंबर में चीन के हांगजू में एशियन गेम्स का आयोजन होगा।

भारतीय बैडमिंटन की दिग्गज खिलाड़ी पीवी सिंधु BWF सीजन 2022 की शुरुआत घरेलू इवेंट से करने जा रही हैं। वे मंगलवार से दिल्ली में आयोजित इंडिया ओपन टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगी।

हालांकि सिंधु अपने वर्कलोड को काफी बेहतरीन तरीके से मैनेज करती आई हैं। लेकिन वार्षिक इवेंट्स के अलावा एशियन गेम्स और कॉमनवेल्थ गेम्स के साथ 2022 के एक बेहद व्यस्त सीजन में अपने समय को मैनेज करना उनके लिए और महत्वपूर्ण हो जाएगा।

पीवी सिंधु ने कहा, “इस साल काफी टूर्नामेंट होने हैं और ऐसे में सही इवेंट चुनना महत्वपूर्ण होगा। हमें कुछ इस तरह से इवेंट्स को चुनना होगा कि मेरी रैंकिंग को भी नुकसान न हो और कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स के दौरान मैं बेहतरीन फॉर्म में रहूं।

वर्ल्ड रैंकिंग में सातवें नंबर की बैडमिंटन खिलाड़ी 2021 की तरह 2022 को भी एक सफल साल बनाने की उम्मीद कर रही हैं।साल 2021 में उन्होंने ओलंपिक कांस्य पदक, BWF वर्ल्ड टूर फाइनल का सिल्वर मेडल जीता था। इसके अलावा 2021 BWF सीजन के अंत तक वो कुल तीन सेमीफाइनल्स में पहुंचीं थीं। 

पीवी सिंधु ने आगे कहा, “कुछ सेमीफाइनल्स और BWF वर्ल्ड टूर फाइनल्स के सिल्वर मेडल के साथ पिछला साल अच्छा रहा था। हालांकि मैं वर्ल्ड चैंपियनशिप का क्वार्टर फाइनल हार गई थी लेकिन मैंने अपना बेहतरीन प्रदर्शन किया था। ओलंपिक मेडल जीतना मेरे लिए एक बड़ी बात थी।

इंडिया ओपन टूर्नामेंट में पीवी सिंधु शीर्ष वरीयता प्राप्त खिलाड़ी के रूप में सीजन की शुरुआत कर रही हैं, और वे ओलंपिक मेडल विजेता और पूर्व नंबर-1 खिलाड़ी lसाइना नेहवाल की मौजूदगी में फैंस की पसंदीदा शटलर हैं।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स