BWF वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप 2022: राउंड ऑफ 16 में दो भारतीय खिलाड़ियों के बीच होगी टक्कर, लक्ष्य सेन से भिड़ेंगे एचएस प्रणॉय

लक्ष्य सेन और एचएस प्रणॉय ने जीत के साथ राउंड ऑफ 16 में प्रवेश किया। प्रणॉय ने दूसरे नंबर के शटलर केंटो मोमोटा को हराकर अगले दौर में जगह बनाई। वहीं, किदांबी श्रीकांत हारकर हुए बाहर।

लेखक रौशन प्रकाश वर्मा
फोटो क्रेडिट Badmintonphoto | Courtesy of BWF

जापान के टोक्यो मेट्रोपॉलिटन जिमनैजियम में जारी BWF वर्ल्ड चैंपियनशिप 2022 में बुधवार को एकल स्पर्धा में भारत के सर्वोच्च रैंकिंग वाले बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन और थॉमस कप जीत के हीरो रहे एचएस प्रणॉय ने अगले राउंड में जगह पक्की कर ली। इसके अलावा एमआर अर्जुन और ध्रुव कपिला की भारतीय पुरुष जोड़ी ने भी राउंड ऑफ 16 में अपनी जगह पक्की कर ली है। 

राउंड ऑफ 32 के मुकाबले में कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के स्वर्ण पदक विजेता लक्ष्य सेन ने अपने प्रतिद्वंदी को सिर्फ 36 मिनट में सीधे गेम में हरा दिया। उन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप 2021 में कांस्य पदक हासिल किया था।

सेन ने स्पेन के लुईस एनरिक पेनल्वर को 21-17, 21-10 से करारी शिकस्त दी। पहले गेम में स्पेनिश शटलर ने सेन को कुछ हद तक चुनौती देने का प्रयास किया लेकिन दूसरे गेम में भारतीय खिलाड़ी ने उन्हें कोई भी मौका नहीं दिया और दोनों गेम के साथ मैच भी अपने नाम कर लिया। 

वहीं, एचएस प्रणॉय ने भी एकल स्पर्धा में जीत दर्ज करते हुए राउंड ऑफ 16 में जगह पक्की कर ली है। प्रणॉय ने 54 मिनट तक चले मैच में जापानी शटलर केंटो मोमोटा को सीधे गेम में 21-17, 21-16 से हराकर अगले दौर में जगह बनाई। 

अब राउंड ऑफ 16 में एचएस प्रणॉय और लक्ष्य सेन आमने-सामने होंगे। 

वहीं, पुरुष एकल के एक अन्य मुकाबले में भारतीय शटलर किदांबी श्रीकांत हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गए हैं। श्रीकांत को चीन के बैडमिंटन खिलाड़ी जुन पेंग हाओ ने 34 मिनट तक चले मुकाबले में 21-9, 21-17 से मात दी। किदांबी ने पिछले साल प्रतियोगिता में रजत पदक हासिल किया था। वह 2021 में वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचने वाले पहले भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बने थे।

पुरुष युगल स्पर्धा के राउंड ऑफ 32 में एमआर अर्जुन और ध्रुव कपिला की भारतीय जोड़ी ने सीधे गेम में 2-0 से जीत दर्ज करते हुए अगले राउंड में जगह बना ली है। 40 मिनट तक चले मुकाबले में भारतीय शटलरों ने डेनमार्क के किम एस्ट्रप और एंडर्स स्कारप रासमुसेन को 21-17, 21-16 से करारी शिकस्त दी।

गुरुवार, 25 अगस्त को राउंड ऑफ 16 में भारतीय जोड़ी का सामना सिंगापुर की जोड़ी ही योंग काई टेरी और लोह कीन हीन से होगा।

चिराग शेट्टीऔर सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी की शीर्ष भारतीय पुरुष जोड़ी को ग्वाटेमाला के सोलिस जोनाथन और एनिबल मैरोक्वीन की जोड़ी ने सिर्फ 24 मिनट में 21-8, 21-10 से हराकर टूर्नामेंट से बाहर कर दिया। 

वहीं, राउंड ऑफ 32 की महिला युगल स्पर्धा में अश्विनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी की भारतीय जोड़ी को हार का सामना करना पड़ा। भारतीय जोड़ी को 42 मिनट तक चले मुकाबले में किंग चेन चेन और यी फान जिया की चीनी जोड़ी ने 21-15, 21-10 से हराया।

त्रिशा जॉली-गायत्री गोपीचंद की भारतीय महिला जोड़ी को भी वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप के राउंड ऑफ 32 में हारकर बाहर होना पड़ा। उन्हें मलेशिया की पर्ली टैन और थिनाह मुरलीधरन की कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 की स्वर्ण पदक विजेता जोड़ी ने सिर्फ 36 मिनट में 21-8, 21-17 से हरा दिया।

पहले गेम में बड़े अंतर से हारने के बाद भारतीय खिलाड़ियों ने वापसी का प्रयास करते हुए मलेशियाई जोड़ी को कड़ी टक्कर दी लेकिन वह इस प्रयास को जीत में बदलने में असफल रहे और दूसरा गेम 21-17 से हार गए। इसके साथ ही प्रतियोगिता में उनका अभियान खत्म हो गया।

महिला युगल स्पर्धा के एक अन्य मुकाबले में पूजा दांडू और संजना संतोष की जोड़ी को भी हार मिली। 33 मिनट तक चले मुकाबले में ली सो ही-शिन सेउंग चान की कोरियाई जोड़ी के खिलाफ भारतीय महिला जोड़ी को 21-15, 21-7 से हार का सामना करना पड़ा।

इसके अलावा अश्विनी भट्ट और शिखा गौतम की भारतीय जोड़ी भी हारकर प्रतियोगिता से बाहर हो गई। उन्हें किम सो यियोंग कोंग ही योंग की कोरियाई जोड़ी ने 57 मिनट तक चले रोमांचक मुकाबले में 21-5, 18-21, 21-13 से शिकस्त दी। 

पहले गेम में 21-5 के बड़े अंतर से हारने के बाद भारतीय शटलरों ने शानदार वापसी करते हुए 21-18 से दूसरा गेम अपने नाम किया। लेकिन, तीसरे और निर्णायक गेम में भारतीय जोड़ी अपने लय को बरकरार नहीं रख सकी और 21-13 से हारकर मैच भी गंवा दिया। इसके साथ ही प्रतियोगिता में उनकी चुनौती खत्म हो गई।

बता दें कि भारत की कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में स्वर्ण पदक जीतने वाली दिग्गज भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु टखने में चोट के कारण इस प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले रही हैं। वहीं, किदांबी श्रीकांत की हार के बाद साइना नेहवाल और लक्ष्य सेन और एचएस प्रणॉय से भारत की उम्मीदें काफी बढ़ गई हैं।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स