एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप: रवि कुमार दहिया ने स्वर्ण तो बजरंग पूनिया ने जीता रजत पदक

भारतीय पहलवान रवि कुमार दहिया ने स्वर्ण पदक और बजरंग पूनिया और गौरव बालियान ने रजत पदक हासिल किया। इसके अलावा नवीन और सत्यव्रत कादियान ने कांस्य पदक जीता। 

लेखक शिखा राजपूत
फोटो क्रेडिट 2021 Getty Images

मंगोलिया के उलानबटार में जारी एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप 2022 में शनिवार को भारतीय पहलवान रवि कुमार दहिया ने मेंस फ्रीस्टाइल 57 किग्रा में स्वर्ण पदक हासिल किया। वहीं, बजरंग पूनिया और गौरव बालियान ने अपनी कैटेगरी में रजत पदक हासिल किया।

भारतीय मेंस फ्रीस्टाइल पहलवान शनिवार को सभी भार वर्गों में पदक जीतने में कामयाब रहें, जिसमें एक स्वर्ण, दो रजत और दो कांस्य पदक शामिल हैं।

भारतीय रेसलर बजरंग पूनिया (65 किग्रा), रवि कुमार (57 किग्रा), गौरव बालियान (79 किग्रा), नवीन (70 किग्रा) और सत्यव्रत कादियान (97 किग्रा) ने पदक जीतें। इसी के साथ भारत के पदकों की संख्या 15 हो गई है।

57 किग्रा मेंस फ्रीस्टाइल इवेंट में टोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि कुमार ने जीत की लय को बरकरार रखा और स्वर्ण पदक हासिल किया। रवि ने अपने सभी मुकाबलों में शानदार प्रदर्शन किया।

रवि कुमार ने क्वार्टरफाइनल मुकाबले में जापान के रिकुटो अराई को कड़ी टक्कर दी और इस मुकाबले में जापानी रेसलर को अंक हासिल करने का मौका नहीं दिया। रवि ने रिकुटो अराई को 15-4 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई।

उसके बाद अपनी जीत को बरकरार रखते हुए मंगोलिया के जानाबाजर जंदनबुड पर 12-5 से जीत हासिल की और फाइनल मुकाबले में जगह बनाई।

फाइनल में रवि कुमार का मुकाबला कजाकिस्तान के रखत कलजान से हुआ और उन्होंने यहां भी जीत हासिल की। रवि ने रखत को 12-2 से हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया।

भारतीय रेसलर ने इस साल यासर डोगू में स्वर्ण पदक और डैन कोलोव-निकोला पेट्रोव में रजत पदक जीता था। वह एशियन चैंपियनशिप में दो बार के मौजूदा चैंपियन भी हैं।

वहीं, बजरंग पूनिया का क्वार्टर फाइनल में सामना उजबेकिस्तान के अब्बोस रख्मोनोव से हुआ। बजरंग ने अब्बोस पर 3-0 से आसानी से जीत दर्ज की। सेमीफाइनल में भी उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए बहरीन के हाजी मोहम्मद अली को 3-1 से पटखनी दी। 

लेकिन फाइनल में बजरंग को ईरान के रहमान मूसा अमौजदखलीलि से हार का सामना करना पड़ा और इस तरह उन्हें रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा। 

बजरंग पूनिया टोक्यो खेलों में कांस्य पदक जीतने के बाद से मैट से दूर रहें हैं। उन्होंने मार्च में एशियन चैंपियनशिप के लिए नेशनल सेलेक्शन ट्रायल में वापसी की थी।

मेंस 79 किग्रा फ्रीस्टाइल में गौरव बालियान ने तुर्कमेनिस्तान के गुरबनमायरत ओवेज़बर्डियेव को 10-0 से करारी शिकस्त दी। सेमीफाइनल में गौरव ने किर्गिस्तान के अरसलान बुडाजापोव के साथ मुश्किल मुकाबले में 8-5 से जीत हासिल की।

फाइनल में गौरव और अली बख्तियार सवादकोही के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला और स्कोर 9-9 की बराबरी पर रहा। अंकतालिका में दूसरे स्थान पर होने के कारण गौरव ने रजत पदक अपने नाम किया।

मेंस 97 किग्रा फ्रीस्टाइल में सत्यव्रत कादियान ने क्वार्टर फाइनल में जापान के ताकाशी इशिगुरो को 5-0 से हराया, लेकिन सेमीफाइनल में ईरान के मोहम्मद हुसैन अस्करी मोहम्मदियानी से हार का सामना करना पड़ा।

लेकिन कांस्य पदक मुकाबले में तुर्केमेनिस्तान के ज़्यामुहम्मत सपरोव को 10-0 से हराकर कांस्य पदक जीता।

70 किग्रा भार वर्ग में भारतीय रेसलर नवीन ने क्वालिफिकेशन मुकाबले में तुर्कमेनिस्तान के परमान होम्माडोव को 11-0 से हराया। लेकिन उन्हें क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा और रेपेचेज नियम के मुताबिक उन्होंने कांस्य पदक मुकाबले में जगह बनाई। जहां उन्होंने मंगोलिया के तेमुलेन एनखुतुया को 8-0 से हराकर कांस्य पदक जीता।

इससे पहले भारतीय ग्रीको-रोमन पहलवान सुनील कुमार (87 किग्रा), अर्जुन हालाकुर्की (55 किग्रा), नीरज (63 किग्रा), हरप्रीत सिंह (82 किग्रा) और सचिन सेहरावत (67 किग्रा) ने पदक जीते थे।

वहीं, महिला फ्रीस्टाइल पहलवान सरिता मोर (59 किग्रा) और सुषमा शौकीन (55 किग्रा), अंशु मलिक (57 किग्रा), राधिका (65 किग्रा) और मनीषा (62 किग्रा) ने पदक जीते थे।

भारतीय पहलवान दीपक पुनिया (मेंस फ्रीस्टाइल 86 किग्रा) रविवार को मैट पर प्रतिस्पर्धा करते नजर आएंगे।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स