पुरुष एशिया कप हॉकी 2022: भारत ने जापान को 1-0 से हराकार जीता कांस्य पदक

मलेशिया (3-3) और साउथ कोरिया (4-4) के खिलाफ ड्रॉ खेलने के कारण भारतीय टीम स्वर्ण पदक मुकाबले में जगह नहीं बना सकी थी। स्वर्ण पदक के लिए मलेशिया और साउथ कोरिया का आमना-सामना होगा।

लेखक रौशन प्रकाश वर्मा
फोटो क्रेडिट Hockey India

इंडोनेशिया के जकार्ता में हुए पुरुष एशिया कप हॉकी 2022 में गत चैंपियन भारत को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा है। बीरेद्र लाकड़ा की कप्तानी वाली भारतीय टीम जापान को हराकर तीसरे स्थान पर रही।

भारत की ओर से एकमात्र गोल राजकुमार पाल (7वें मिनट) ने किया। वहीं, इसके बाद पूरे मैच में दोनों टीम की ओर से कोई भी गोल नहीं किया जा सका। भारतीय टीम पहले गोल के बाद ज्यादातर डिफेंसिव रही और जापान के सभी प्रयासों को नाकाम करते हुए 1-0 से मैच को अपने नाम किया।

भारत-जापान के बीच कांस्य पदक मुकाबला बेहद आक्रामकता के साथ शुरु हुआ। भारतीय टीम को मैच की शुरुआत में ही फ्री हिट मिली। लेकिन, जापान के डिफेंडर अच्छे तरीके से भारत के आक्रमण से टीम को बचाया। इसके बाद दोनों ही टीमों ने एक-दूसरे के खिलाफ आक्रामक खेल से दबाव बनाना जारी रखा।

भारत को पहली सफलता मैच के पहले क्वार्टर में राजकुमार पाल ने दिलाई। राजकुमार पाल (7वें मिनट में) ने जापान के घेरे को भेदते हुए शानदार फील्ड गोल किया और टीम इंडिया को 1-0 की शुरुआती बढ़त दिला दी।

पहले क्वार्टर में भारत को दो पेनल्टी कॉर्नर का भी मौका मिला, लेकिन वे इसे गोल में तब्दील नहीं कर सके। मैच के 15 मिनट खत्म होने तक एक अहम मुकाबले में भारत ने 1-0 की बढ़त को बरकरार रखा।

दूसरे, तीसरे और चौथे क्वार्टर के दौरान भारत और जापान के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिली। लेकिन, भारतीय टीम ने जापान के हरेक प्रयास को पूरी तरह से विफल कर दिया। हालांकि, इस दौरान टीम इंडिया भी कोई गोल नहीं कर सकी।

दूसरे क्वार्टर में एक बार फिर से दोनों टीमें काफी आक्रामक दिखीं। जापान के पास पेनल्टी कॉर्नर के कई मौके आए लेकिन भारतीय गोलकीपर ने बेहतरीन सूझ-बूझ के साथ प्रतिद्वंदी टीम को स्कोरलाइन बराबर करने से रोका। मैच के दूसरे क्वार्टर में भारत ने कोई गोल नहीं किया लेकिन अच्छी बात ये रही कि भारत ने जापान को भी कोई गोल करने का मौका नहीं दिया और अपनी बढ़त को भी बनाए रखा।

तीसरा क्वार्टर पूरी तरह से भारत के नाम रहा और जापान की तमाम कोशिशों को भारतीय टीम ने नाकाम करते हुए अपनी 1-0 की बढ़त को बनाए रखा। चौथे क्वार्टर में भी भारत ने अपनी बढ़त को बचाने का प्रयास जारी रखा और जापान को कोई भी गोल नहीं करने दिया।

मंजीत को येलो कार्ड मिलने के कारण भारतीय टीम ने मुकाबले के अंतिम 10 मिनट सिर्फ 10 खिलाड़ियों के साथ ही खेले। इसके बावजूद भी युवा और अनुभवी खिलाड़ियों की मिश्रण वाली टीम ने जापान को कोई मौका नहीं दिया।

इस तरह भारतीय टीम ने एशिया कप हॉकी 2022 के कांस्य पदक मैच में जापान पर जीत दर्ज करते हुए तीसरा स्थान हासिल किया है। आपको बता दें भारतीय टीम पिछली बार इस टूर्नामेंट की चैंपियन रही थी।

टूर्नामेंट में गत एशिया कप चैंपियन भारत इस बार सुपर 4 चरण में तीसरे स्थान पर रहने के बाद स्वर्ण पदक मैच में नहीं पहुंच सका। वहीं, जापान चौथे स्थान पर रहा।

इस टूर्नामेंट में भारतीय टीम का सामना जापान के खिलाफ तीन बार हुआ, जिसमें से दो बार भारत ने जीत दर्ज की। हालांकि, ग्रुप स्टेज के एक मुकाबले में भारतीय टीम को जापान से हार का सामना करना पड़ा था।

.

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स