Arif Khan का बीजिंग 2022 सफर: त्याग, प्रेरणा और भविष्य की ओर एक बड़ा कदम

बीजिंग 2022 खेलों में भारत के एकमात्र प्रतिनिधि Arif Khan का सफर पदकों के मापदंड पर तो सफल नहीं था लेकिन जो उन्होंने किया वह देश में शीतकालीन खेलों के लिए बहुत बड़ा कदम है। उन्होंने olympics.com से बात करते हुए अपने अनुभव और यहां तक पहुंचने के बारे में बताया।

फोटो क्रेडिट 2022 Getty Images

बिना त्याग और मेहनत के कामयाबी नहीं मिलती। इस बात का एक जीता-जागता उदाहरण भारतीय स्कीयर Arif Khan हैं जो बीजिंग 2022 में अपने देश का मान बढ़ाने उतरे। अपने पदार्पण शीतकालीन ओलंपिक खेलों में Arif Khan ने भारत में शीतकालीन खेलों के भविष्य को लेकर एक उम्मीद की किरण दिखाई है।

31 वर्षीय भारतीय स्कीयर के बीजिंग 2022 तक के सफर पर नजर डालें तो पता चलता है कि इसके लिए उन्होंने 10-12 साल लगन के साथ मेहनत की। बचपन में ही पिता के समर्थन से उन्हें जो स्कीइंग में दिलचस्पी जागी, वो बीजिंग 2022 तक बनी रही।

olympics.com ने Arif Khan के बीजिंग 2022 के सफर के बारे में जब बात की तो उनके पास बताने के लिए बहुत कुछ था। उन्होंने कहा, “मुझे भारत के लोगों से बहुत सहयोग और समर्थन मिला है। पिछले 10 से 12 वर्षों में यह मेरा सपना रहा है और मैंने इसे पूरा करने के लिए बहुत परिश्रम किया है। मैं कई जगह अभ्यास किया और इसी कारण से मुझे बहुत यात्रा करनी पड़ी, अनेक देशों में खेलना पड़ा है। उसके बाद यह सपना देखना की मैं 1.4 अरब लोगों का प्रतिनिधित्व करूँगा यह मेरी कल्पना के बाहर था।”

‘मेरा सपना पूरा हुआ’

जम्मू-कश्मीर से ताल्लुक रखने वाले Arif बीजिंग 2022 में हिस्सा लेने वाले भारत के इकलौते एथलीट थे जिसकी उन्होंने कभी कल्पना नहीं की थी। Arif Khan ने कहा, “ मैंने कभी नहीं सोचा था की मैं वह खिलाड़ी बनूंगा जो भारत का प्रतिनिधित्व करेगा। फिर क्वालिफिकेशन चरण समाप्त हुआ और हर वर्ग अथवा खेल के खिलाड़ियों के परिणामों के बारे में पता चला। जब मुझे पता चला कि मैं क्वालीफाई करने वाला एकमात्र भारतीय खिलाड़ी था, तो मुझे विश्वास नहीं हुआ और मेरी आंखों से आंसू आने लगे। मैं अपनी भावनाओं को नियंत्रण नहीं रख पाया और उन्हें व्यक्त भी नहीं कर पाया। वह बिलकुल अविश्वसनीय था और मेरे लिए बहुत बड़ी बात थी। पूरे जीवन आपने अभ्यास किया और इस क्षण के लिए काम किया। मेरा सपना पूरा हुआ।”

‘शादी को टालना मेरे लिए बड़ा त्याग’

बीजिंग 2022 की दो स्पर्धाओं में सीधे क्वालीफाई करने वाले पहले एथलीट बने Arif ने अपने ओलंपिक सफर में कई बड़े त्याग किए हैं जिनमें से एक उनकी शादी का टलना भी था।

“यह एक ऐसी कहानी है जो पूरे विश्व में लोकप्रिय हो गई है और जरूरी बात यह है कि जब आप कोई ऐसा काम करते हैं तो सफर को भूल नहीं सकते। आपने यहां तक पहुंचने के लिए जो काम किया वह बहुत ही जरूरी था और जो त्याग दिया, उसे कभी भुला नहीं सकते। अपनी शादी को विलंबित करना मेरे लिए बहुत बड़ा त्याग था और मेरी मंगेतर उस समय मुझे देख रही थी। उन्हें बहुत आश्चर्य हुआ लेकिन उन्होंने मुझे कहा कि अंत में मेरा निर्णय बिलकुल ठीक था।”

Arif Khan ने olympics.com से बातचीत में बताया।

बता दें कि Arif Khan ने बीजिंग 2022 की दो स्पर्धाओं में हिस्सा लिया। उन्होंने अल्पाइन स्कीइंग की जायंट स्लैलम स्पर्धा में विषम परिस्थितियों के बीच दोनों रन पूरा किए। वह दूसरे रन में 45वें स्थान पर रहे। हालांकि स्लैलम स्पर्धा में वह अपना रन पूरा नहीं कर सके लेकिन इस दौरान उन्होंने अपनी एकाग्र और शांत रन से प्रभावित किया।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स