ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप 2022: फाइनल में पहुंच कर लक्ष्य सेन ने रचा इतिहास

लक्ष्य सेन ने मलेशिया के मौजूदा चैंपियन ली जी जिया को तीन गेम तक चले मुकाबले में हराया।

लेखक शिखा राजपूत
फोटो क्रेडिट Badmintonphoto

लक्ष्य सेन ने शनिवार को बर्मिंघम में ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियनशिप 2022 मेंस सिंगल्स इवेंट के फाइनल में प्रवेश किया है। उन्होंने 21 साल बाद इस इवेंट के फाइनल में पहुंचकर पहले भारतीय बनकर इतिहास रच दिया।

दुनिया के 11वें नंबर के खिलाड़ी लक्ष्य सेन ने 7वें नंबर के मलेशियाई खिलाड़ी ली जी जिया को एक घंटे 16 मिनट तक चले मुकाबले में 21-13, 12-21, 21-19 से मात दी।

लक्ष्य सेन ने मौजूदा चैंपियन ली जी जिया के खिलाफ डिफेंसिव शुरुआत की, लेकिन ब्रेक के बाद शानदार खेल दिखाया और 11-7 की बढ़त हासिल कर ली।

ली जी जिया ने बढ़त हासिल करके स्कोर 13-11 कर दिया। हालांकि, लक्ष्य सेन ने सीधे छह अंक जीते और मैच में महत्वपूर्ण 1-0 की बढ़त बना ली।

दूसरे गेम में ली जी जिया ने स्मैश की झड़ी लगा दी और गेम को निर्णायक राउंड में पहुंचा दिया।

तीसरे गेम में दोनों खिलाड़ियों ने रक्षात्मक रुख अपनाया। ली जी जिया मैच में 18-16 की बढ़त बनाए हुए आगे बढ़ रहे थे। वहीं, लक्ष्य सेन अगले छह में से पांच अंक लेकर तीसरे गेम के साथ मैच को भी जीत लिया

इस जीत के साथ लक्ष्य सेन 2001 में पुलेला गोपीचंद की यादगार जीत के बाद प्रतिष्ठित BWF सुपर 1000 इवेंट के फाइनल में हिस्सा लेने वाले पहले भारतीय होंगे।

1980 और 1981 में प्रकाश पादुकोण देश के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी थे, जिन्होंने इससे पहले ऑल इंग्लैंड ओपन फाइनल में जगह बनाई थी।

ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है जब लक्ष्य सेन ने इस साल एक उच्च रैंकिंग वाले खिलाड़ी को हराया है। दिसंबर में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य जीतने के बाद लक्ष्य सेन ने जनवरी में इंडिया ओपन फाइनल में लोह कीन यू पर जीत के साथ अपना पहला BWF सुपर 500 खिताब जीतकर 2022 सीजन की शुरुआत की थी।

एक ब्रेक के बाद लक्ष्य सेन ने टोक्यो ओलंपिक चैंपियन विक्टर एक्सेलसन को हराकर जर्मन ओपन के फाइनल में प्रवेश किया। लक्ष्य सेन ने ऑल इंग्लैंड ओपन में अपने दूसरे दौर के मैच में दुनिया के नंबर 3 एंडर्स एंटोनसेन को भी हराया था।

फाइनल में लक्ष्य सेन या तो दुनिया के चौथे नंबर के चीनी ताइपे के चाउ तिएन-चेन या दुनिया के नंबर एक विक्टर एक्सेलसेन से भिड़ेंगे।

वूमेंस डबल्स मुकाबले में पुलेला गोपीचंद की बेटी गायत्री गोपीचंद और त्रिसा जॉली की जोड़ी को यू झेंग और जियान झांग की चीनी जोड़ी से 21-17, 21-16 से हार का सामना करना पड़ा।

भारतीय जोड़ी ने ऑल इंग्लैंड ओपन में शानदार प्रदर्शन किया। इस जोड़ी ने क्वार्टर फाइनल मुकाबले में दुनिया के दूसरे नंबर के खिलाड़ी ली सोही और साउथ कोरिया के शिन सेउंगचन को हराया था।

ओलंपिक जाएं। यह सब पायें।

मुफ्त लाइव खेल आयोजन | सीरीज़ के लिए असीमित एक्सेस | ओलंपिक के बेमिसाल समाचार और हाइलाइट्स