फोटो क्रेडिट Sebastien Muylaert

जानिए फुटबॉल में फ्री ट्रांसफर क्या होता है?

लियोनेल मेसी हाल ही में अपने बार्सिलोना क्लब को छोड़ने के बाद फ्री ट्रांसफर के तौर पर पेरिस सेंट-जर्मन से जुड़े।
लेखक रितेश जायसवाल

लियोनेल मेसी (Lionel Messi) काफी लंबे समय से बार्सिलोना क्लब के साथ जुड़े हुए थे। इसे छोड़ने के बाद वह फ्री ट्रांसफर के तौर पर पेरिस सेंट-जर्मन से जुड़ गए।

आमतौर पर एक खिलाड़ी के ट्रांसफर में फुटबॉलर के मौजूदा क्लब को फुटबॉलर को खरीदे जाने वाले क्लब की ओर से मुआवजे की राशि दी जाती है।

इस मुआवजे को ट्रांसफर फीस के तौर पर जाना जाता है, और यह कई कारकों पर निर्भर करती है, जिसमें खिलाड़ी के मौजूदा कॉन्ट्रैक्ट की राशि और कॉन्ट्रैक्ट में बचा समय शामिल है।

हालांकि, जब कोई खिलाड़ी अपने पूर्व क्लब के द्वारा अपने नए क्लब को ट्रांसफर फीस दिए बिना एक क्लब से दूसरे क्लब में जाता है तो यह फ्री ट्रांसफर कहलाता है।

एक फ्री ट्रांसफर आमतौर पर तब होता है जब किसी खिलाड़ी का मौजूदा कॉन्ट्रैक्ट समाप्त हो जाता है या समाप्त होने वाला होता है। एक खिलाड़ी एक क्लब से दूसरे क्लब में फ्री ट्रांसफर तब भी ले सकता है यदि उसका मौजूदा क्लब आपसी सहमति के आधार पर उसे अपने मौजूदा कॉन्ट्रैक्ट से फ्री करने के लिए अपनी सहमति व्यक्त करता है।

क्योंकि मेसी अपने पूर्व क्लब बार्सिलोना के साथ कॉन्ट्रैक्ट पर नहीं थे, इसलिए पीएसजी ने बार्सिलोना को ट्रांसफर फीस का भुगतान किए बिना ही उन्हें अपने साथ जोड़ लिया।

जब किसी खिलाड़ी के मौजूदा कॉन्ट्रैक्ट के समाप्त होने में केवल छह महीने या उससे कम का समय बचा होता है तो वह ट्रांसफर फीस के बिना ही अन्य क्लबों के साथ जुड़ने के लिए स्वतंत्र होता है।

बोसमैन ट्रांसफर

एक फ्री ट्रांसफर को बोसमैन ट्रांसफर के रूप में भी जाना जाता है। बोसमैन का निर्णय यूरोपियन कोर्ट ऑफ जस्टिस का फैसला है जो 1995 में फ्रीडम ऑफ मूवमेंट और एसोसिएशन फॉर वर्कर्स के लिए दिया गया था।

यह फैसला बेल्जियम के प्रोफेशनल फुटबॉलर जीन-मार्क बोसमैन से जुड़े मामले पर दिया गया था, और यूरोपीय संघ में खिलाड़ियों को अपने मौजूदा पक्ष के साथ अपने कॉन्ट्रैक्ट के खत्म होने पर दूसरे क्लब से स्वतंत्र रूप से ट्रांसफर लेने की अनुमति दी गई थी।

इसका मतलब यह था कि फुटबॉल क्लब अब अपने खिलाड़ी के फैसले रोक नहीं लगा सकते हैं या किसी भी तरह की फीस की मांग नहीं कर सकते हैं, न ही उस खिलाड़ी से या उस क्लब से जिसमें वह जा रहा हो। लेकिन यह तभी संभव होता है जब खिलाड़ी अपने कॉन्ट्रैक्ट के अंत में किसी दूसरे क्लब से जुड़ने का निर्णय लेता है।

इस फैसले के अगले ही साल एडगर डेविड्स यूरोप के पहले हाई-प्रोफाइल खिलाड़ी बने, जिन्हें इस फैसले का फायदा हुआ। नतीजतन वह डच क्लब अजाक्स को छोड़कर इटली के क्लब एसी मिलान से जुड़ गए।

काफी चर्चा में रहे मेसी के इस कदम के अलावा रॉबर्ट लेवांडोव्स्की (Robert Lewandowski) का 2014 में बोरुसिया डॉर्टमुंड (Borussia Dortmund) से बायर्न म्यूनिख में जाना, 2011 में एंड्रिया पिरलो (Andrea Pirlo) का एसी मिलान से जुवेंटस में जाना और 2006 में माइकल बैलक (Michael Ballack) का बायर्न से चेल्सी में शामिल होना भी कुछ अन्य हाई-प्रोफाइल फ्री ट्रांसफर के उदाहरण हैं।

इसके अलावा ज़्लाटन इब्राहिमोविक (Zlatan Ibrahimovic) और एडिंसन कैवानी (Edinson Cavani) के पीएसजी से 2016 और 2020 में मैनचेस्टर यूनाइटेड में फ्री ट्रांसफर ने भी खूब सुर्खियां बटोरीं थीं।