फोटो क्रेडिट 2016 Getty Images

किमिया अलीज़ादेह से मिलिए: अपने हक की बराबरी के लिए लड़ रही रिफ्यूजी ओलंपिक पदक विजेता

ताइक्वांडो की इस खिलाड़ी का जन्म ईरान में हुआ, जब उन्होंने यूथ ओलंपिक गेम्स और रियो 2016 में कांस्य जीता था, लेकिन 'उत्पीड़ित' परिस्थितियों के कारण वह 2020 में वहां से भाग गई थी।
लेखक लक्ष्य शर्मा

ताइक्वांडो की इस खिलाड़ी का जन्म ईरान में हुआ, जब उन्होंने यूथ ओलंपिक गेम्स और रियो 2016 में  कांस्य जीता था, लेकिन 'उत्पीड़ित' परिस्थितियों के कारण वह 2020 में वहां से भाग गई थी।

ताइक्वांडो एथलीट किमिया अलीजादेह जीवन की सबसे अप्रत्याशित शुरुआत से एक अंतरराष्ट्रीय खेल स्टार बन गईं।

वह ईरान के कारज में एक मेज़पोश निर्माता की बेटी के रूप में एक मामूली परिवार में पैदा हुई थी। फाइनेंशियल टाइम्स को उन्होंने बताया कि वह हमेशा 'दूसरों की तरह नहीं, एक अलग जीवन जीना चाहती थी'।

एक दिन जब वह सात साल की थी, अलीजादेह अपने शहर के जिम में टहल रही थी, जहां केवल ताइक्वांडो की क्लास दी जाती थीं। इसमें समय लगा, लेकिन आखिरकार उन्हें मार्शल आर्ट से प्यार हो गया और एक साल के भीतर वह एक राष्ट्रीय चैंपियन बन गई।

2014 में विश्व जूनियर ताइक्वांडो चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने के बाद वह अपने देश में छा गई। वहीं रूस के चेल्याबिंस्क में 2015 विश्व ताइक्वांडो चैंपियनशिप में कांस्य के लिए दो बार के ब्रिटिश ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता जेड जोन्स को हराने से पहले वह नानजिंग में एक यूथ ओलंपिक खेलों की चैंपियन बनीं

इन उपलब्धियों के बाद उनसे रियो 2016 ओलंपिक खेलों में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद थी, और एक बार फिर उन्होंने निराश नहीं किया।

18 वर्ष की उम्र में, वह अपने देश की महिला ओलंपिक पदक विजेता (57 किग्रा वर्ग में कांस्य जीतने वाली) बन गईं। जब वह घर वापस लौटी तो उन्हें एक नायक के रूप में सम्मानित किया गया था और उनकी इस उपलब्धि  के कारण उन्हें 'सुनामी' उपनाम दिया गया था।

अलीजादेह ने उस समय कहा था कि, "मैं सभी ईरानी महिलाओं के लिए बहुत खुश हूं, क्योंकि यह खेलों में ईरानी महिला के लिए पहला पदक है और मुझे उम्मीद है कि अगले ओलंपिक खेलों में हम स्वर्ण पदक हासिल करेंगे।"

एक साल बाद उन्होंने दक्षिण कोरिया के मुजू में 2017 विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीता। इस तरह उनका शानदार प्रदर्शन जारी रहा।

लेकिन जनवरी 2020 में सब कुछ बदल गया। कारज में जन्मी एथलीट एक इंस्टाग्राम पोस्ट में खुद को 'ईरान की लाखों उत्पीड़ित महिलाओं में से एक' बताते हुए अपने देश से भाग गई।

इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि ईरानी एथलीटों का पर्दे के पीछे से शोषण किया गया। "मैंने जो चाहा, मैंने कपड़े पहने। मैंने आपके द्वारा दिए गए हर वाक्य को दोहराया। यह मेरे और हमारे बारे में नहीं है। हम सिर्फ उपकरण हैं।"

सरकारी अधिकारियों ने तुरंत उसकी निंदा की और उन्हें सोशल मीडिया के माध्यम से धमकियां मिलने लगीं।

अलीजादेह ने पहले हैम्बर्ग की यात्रा करने से पहले नीदरलैंड के आइंडहोवन में शरण मांगी थी, इस उम्मीद में कि वह भविष्य में जर्मन ताइक्वांडो संघ के लिए प्रतिस्पर्धा करेगी।

आज ये एथलीट अपने पति के साथ नूर्नबर्ग में रहती है। जहां वह प्राकृतिक करण और टोक्यो 2020 ओलंपिक में जगह बनाने की दिशा में काम करना जारी रखती है।

अलीज़ादेह के भागने के बाद से, ईरान ताइक्वांडो एसोसिएशन ने उसे दूसरे राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया था, जिसका अर्थ है कि उन्होंने 2018 के बाद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा नहीं की है।

हालांकि, ओलंपिक से पहले उसके जर्मन प्राकृतिक करण को संसाधित करने की संभावना नहीं है, वह अभी भी प्रतिस्पर्धा करने की स्थिति में हो सकती है।

एक अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति रिफ्यूजी एथलीट छात्रवृत्ति धारक के रूप में, वह अतिरिक्त प्रशिक्षण निधि और टोक्यो 2020 में रिफ्यूजी ओलंपिक टीम के लिए प्रतिस्पर्धा कर सकती हैं।

FT.com से बातचीत में उन्होंने बताया कि "मैं ओलंपिक और विश्व [चैंपियनशिप] पदक जीतने की उम्मीद करती हूं। मेरी इच्छा नहीं बदली हैं, लेकिन लक्ष्य हासिल करने के तरीकों में जरूर बदलाव आया है।"

21 साल की उम्र में उनके पास अपने नए राष्ट्र के लिए पेरिस 2024 ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने का एक अच्छा मौका है।

लेकिन वह किसी भी झंडे से खेेले, इससे उन्हें फर्क नहीं पड़ता। कारज की एथलीट ने कहा कि वह जहां भी होगी "ईरान की संतान" रहेगी और समानता के लिए लड़ना जारी रखेगी, ताकि सभी महिला खिलाड़ी अपने सपने को पूरा करने का जज्बा दिखा पाए।