सांडा एल्डास: ओलंपिक के लिए आशान्वित रिफ्यूजी जुडोका, करतब दिखाने वाला खेल और मातृत्व

सीरिया में जन्मी एल्डास आईओसी रिफ्यूजी एथलीट छात्रवृत्ति-धारकों में से एक है। तीन बच्चों की मां का एक सपना है: टोक्यो 2020 के लिए जगह पाना।
लेखक लक्ष्य शर्मा

(टॉप फोटो क्रेडिट: इंटरनेशनल जूडो फेडरेशन / सबाऊ गैब्रिएला)

सभी एथलीटों की तरह सांडा एल्डास के पास आईओसी रिफ्यूजी एथलीट छात्रवृत्ति योजना जीवित रहने में मददगार साबित हुई। पहले अपने युद्धग्रस्त देश में फिर बाद में अपने मेजबान समुदाय में बसने के लिए उन्हें काफी परेशानी झेलनी पड़ी।

सीरिया में जन्मी जूडोका, जो छह साल पहले नीदरलैंड भागी इस एथलीट ने खुद को मजबूत करने के लिए अपने खेल पर भरोसा किया है। उन्होंने ऐसा न केवल शारीरिक रूप से किया बल्कि मानसिक रूप से भी वह इसमें जुट गई। मध्य पूर्व से यूरोप में अपने कठिन संक्रमण के माध्यम से उन्होंने बड़ी बाधा पार की।

उन्होंने पिछले साल Olympic.org को बताया था कि "अगर मैं कुछ नहीं कर बैठी होती, तो मैं पागल हो जाती,"

अब एम्स्टर्डम के बाहर अपने पति और तीन बच्चों के साथ रह रही हैं। जिनमें से दो नीदरलैंड में बसने के बाद पैदा हुए थे। एल्डास की नजर 2021 में टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों के लिए आईओसी रिफ्यूजी ओलंपिक टीम बनाने पर है।

एल्डास ने 2015 में दमिश्क और सीरिया के गृहयुद्ध से बचने का फैसला किया। जिससे उनके पति फादी दरवेश, जो उनके कोच भी हैं, अपने छोटे बेटे के साथ पीछे रह गए।

हालांकि नीदरलैंड आने पर उन्होंने नौ महीने एक रिफ्यूजी कैंप में बिताए, इस दौरान वह अपने परिवार से 6 महीने दूर रहे।

उन्होंने कहा कि "आसपास दौड़ने और कुछ व्यायाम करने से मेरा समय निकल गया और मुझे अच्छा मानसिक स्वास्थ्य का फायदा मिला।"

"मुझे पता था कि अंततः वे आएंगे और हमारे पास रहने के लिए एक अच्छी जगह होगी। इससे मुझे थोड़ा रिलेक्स होने को मिला।"

जब वे अंततः अपने नए घर में चले गए, तो एल्डास को फिर से जूडो को रोकने के लिए मजबूर होना पड़ा।  वह अपने दूसरे बच्चे के साथ गर्भवती थी। इस बीच, दरवेश ने एक कोच के रूप में पहचाने जाने की कोशिश की।

तब से एल्डास और दरवेश ने एक तीसरे बच्चे का स्वागत किया है, जबकि आवश्यक भाषा और अन्य बाधाओं को पार करने के बाद दरवेश ने नीदरलैंड में अपनी कोचिंग क्रेडेंशियल प्राप्त की।

इंटरनेशनल जूडो फेडरेशन ने 2019 में इस जोड़ी को अपने रिफ्यूजी एथलीट कार्यक्रम में आमंत्रित किया, जिसमें एल्डास ने उस वर्ष की विश्व चैंपियनशिप में आईजेएफ रिफ्यूजी टीम जुडोका के रूप में प्रतिस्पर्धा की।

इस एथलीट ने ग्रैंड स्लैम इवेंट्स में आईजेएफ रिफ्यूजी टीम का भी प्रतिनिधित्व किया है क्योंकि वह संभावित ओलंपिक खेलों अपने स्थान को पक्का करने का लक्ष्य बना रही हैं।

हालांकि इस दौरान वह मातृत्व की चुनौतियों को भी संतुलित कर रही हैं।

एल्डास ने कहा कि "मेरे बच्चे ऐसे हैं, 'माँ, आपको ओलंपिक में जाना है। मेरे पूरे परिवार का लक्ष्य ओलंपिक तक पहुंचना है।"

"यह अभी सिर्फ एक सपना है, वहाँ यह एक सपने के सच होने जैसा होगा।

"हम देखेंगे। मैं बहुत आगे की नहीं सोच रही हूं।"