फोटो क्रेडिट ©IOC

अब्दुल्ला सिद्दीकी का परिचय - रिफ्यूजी ताइक्वांडो एथलीट और ओलंपिक में जीत की आशा

आईओसी शरणार्थी एथलीट स्कॉलर कैसे ताइक्वांडो में 2021 में टोक्यो 2020 ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने के लिए एक प्लेटफार्म प्रदान कर सकता है
लेखक लक्ष्य शर्मा

आईओसी रिफ्यूजी एथलीट छात्रवृत्ति धारक अब्दुल्ला सिद्दीकी ने आठ साल की उम्र से ताइक्वांडो में करियर बनाने का फैसला कर लिया था।

वह खेल, जिसका वह अब बेल्जियम में अभ्यास करते है। उस समय को याद करते हुए वह बताते हैं कि कठिन समय से निकलते हुए मैं  भविष्य की सोच रखता हूं। वह उस वक्त के बारे में बताते हैं कि पहले जब वह अपने युद्धग्रस्त देश से भाग रहे थे और  फिर से कोरोना वायरस महामारी के कारण उन्हें किस तरह की परेशानी झेलनी पड़ी

अफगानिस्तान के मूल निवासी सिद्दीकी, अपने खेल क्षमता के कारण गिरोहों की धमकियां मिलने के बाद अपनी जान के डर से चार साल पहले यूरोप भाग गए थे।

उन्होंने अपने भागने के बारे में कहा कि "यह एक भीषण मिशन था, ऐसे दिन थे जब मैं सीधे 12 घंटे चलता था।"

अब एंटवर्प के पड़ोस विल्रिजक में स्थापित, 24 वर्षीय ने इस समर में 2021 में टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों को टारगेट कर रहे हैं हालांकि उनके हालिया परिणामों से कुछ निराशा जरूर हो रही है।

सिद्दीकी पूरी तरह से ओलंपिक खेलों में जाने के अपने सपने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं लेकिन वास्तविक दुनिया ने उन्हें पिछले साल एक भावनात्मक झटका दिया।

ताइक्वांडो व्लांडरन (फ़्लैंडर्स ताइक्वोंडो) के साथ हाल ही में एक इंटरव्यू में उन्होंने खुलासा किया कि कोरोना से उनकी मां का निधन हो गया था और वह अपनी मां को देख तक नहीं पाए थे।

उन्होंने बताया कि "मेरी माँ की छह महीने पहले कोरोना से मृत्यु हो गई और वह समय मेरे लिए बहुत कठिन था। बेल्जियम आने के बाद से मैंने उन्हें नहीं देखा था। अचानक, आपको बताया जाता है कि वह गंभीर रूप से बीमार है और थोड़ी देर बाद वह चली बसी।"

“वह पल मुश्किल था लेकिन अब मैं उससे आगे बढ़ चुका हूं”

ताइक्वांडो ने उन्हें अपनी भावनाओं को प्रसारित करने के लिए एक प्लेटफॉर्म प्रदान किया है।

कोच अलीरेज़ा नासर आजादानी के साथ विल्रिजक में वह ट्रेनिंग कर रहे हैं और उसका फायदा भी उन्हें हुआ। उन्होंने 2019 स्पेनिश ओपन में रजत और 2020 डच ओपन में कांस्य जीता। इसके अलावा उन्होंने मैनचेस्टर में 2019 विश्व चैंपियनशिप में रिफ्यूजी एथलीट के रूप में विश्व ताइक्वांडो का भी प्रतिनिधित्व किया, जहां वह अपने भार वर्ग में अंतिम-64 में पहुंचे।

इस एथलीट ने ताइक्वांडो व्लांडरन से कहा कि "वह प्रदर्शन टीम में मेरी भावना को दर्शाते हैं और यह अच्छा है।" 

"इस समय मेरा बड़ा लक्ष्य टोक्यो ओलंपिक तक पहुंचना है। विभिन्न खेलों में रिफ्यूजी टीम के एथलीटों के लिए कुछ स्थान अब भी खाली हैं।"

"उन सभी उम्मीदवारों में से, मेरी रैंकिंग बेहतर है। इसलिए टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा लेना अब भी मुमकिन है।"

पिछले साल टोक्यो 2020 वेबसाइट से बात करते हुए, सिद्दीकी ने कहा कि एक रिफ्यूजी एथलीट छात्रवृत्ति धारक होना "शांति का क्षण" था।

"सारे देश एक साथ (खेल के माध्यम से) आ सकते हैं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं। काले, सफेद, महिला, पुरुष, या आप किस देश से आते हैं।

"ओलंपिक में (वे सभी हैं) एक ही स्थान पर है।"

अगर वह टोक्यो में हिस्सा लेते है तो एक खिलाड़ी है, वह जिसका विशेष रूप से सामना करना चाहता है।

उन्होंने दक्षिण कोरिया के दो बार के ओलंपिक पदक विजेता "ली डे-हून" का जिक्र करते हुए कहा।

वे कहते हैं कि "मैं उन्हें हराना चाहता हूं। वह दुनिया में (सर्वश्रेष्ठ) फाइटर है।"