जंजा गार्नब्रेट

स्लोवेनिया SLO

स्पोर्ट क्लाइम्बिंग

  • मेडल्स
    1 G
  • पहला प्रतिभागी
    टोक्यो 2020
  • जन्म का साल
    1999
ओलंपिक रिजल्ट

बायोग्राफी

जंजा गार्नब्रेट

जंजा गार्नब्रेट का जन्म स्लोवेनिया में हुआ था। वह 22 वर्षीय एक एथलीट हैं, जहां उन्होंने अपने खेल में एक अलग पहचान स्थापित की है। 

जंजा ने अपनी छोटी सी उम्र से ही क्लाइम्बिंग में दिलचस्पी रखने लगी थी। जहां उन्होंने सिर्फ आठ साल में पहली राष्ट्रीय प्रतियोगिता अपने नाम की थी। जंजा अधिकांश अपने घर पर पेड़ों या अलग-अलग जगह चढ़ाई करते हुए पाई जाती थीं। जिसके कारण उनके माता पिता उनकी इनडोर चढाई से परिचित थे और आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते थे। 

सीएनएन के अनुसार, वह अपनी चढ़ाई में उच्च स्थान हासिल नहीं कर पाती थी, वह प्रतियोगिताओं में अंतिम स्थान पर आती थी। हालांकि फिर भी उन्हें चढ़ाई करना काफी पसंद था, जिसके कारण उन्हें यह कभी परेशान नहीं किया। वहीं, जैसे-जैसे वह बड़ी होती गईं अपने खेल में बेहतर होने लगीं। जिसके कारण उन्होंने जल्द ही एक अपना नाम स्थापित कर लिया और अब टोक्यो खेलों में एक बेहतरीन एथलीट के तौर पर नजर आने वाली हैं।

वहीं, उनके करियर की पहली बड़ी प्रतियोगिता साल 2013 और 14 में आई, जहां उन्होंने बोल्डरिंग में यूरोपीय यूथ चैंपियनशिप अपने नाम किया।

पिछले कुछ वर्षों के दौरान 2020 के ओलंपिक खेलों तक, गार्नब्रेट ने एक वरिष्ठ पर्वतारोही के रूप में दर्ज की गई प्रतियोगिताओं में अपना दबदबा बनाया है। जहां साल 2016 के बाद से, उन्होंने विश्व चैंपियनशिप में छह स्वर्ण पदक जीते हैं। इसके साथ ही साथ कम से कम एक बार इन डिसिप्लिन लीड, बोल्डरिंग और कम्बाइंड में से प्रत्येक में खिताब हासिल किया है। वहीं, उन्होंने 2019 चैंपियनशिप में जीत हासिल की और साथ ही प्रत्येक डिसिप्लिन में एक स्वर्ण पदक जीता।

उसी वर्ष, गार्नब्रेट ने एक ही सीज़न में सभी बोल्डिंग वर्ल्ड कप इवेंट जीतने वाली पहली एथलीट के रूप में इतिहास रच दिया। इस दौरान कुल मिलाकर 78 बोल्डर में से 74 शीर्ष पर रहे। वहीं, उन्होंने 2017 वर्ल्ड गेम्स में एक रजत पदक और हाल ही में यूरोपीय चैंपियनशिप में दो रजत और लीड, बोल्डरिंग और कम्बाइंड में एक स्वर्ण पदक जीता है।

स्पोर्ट्स क्लाइंबिंग में उनकी शानदार उपस्थिति ने उन्हें 2018 में "स्लोवेनियाई स्पोर्ट्स वुमेन ऑफ द ईयर" का खिताब दिलाया, और उसी वर्ष उन्हें वर्ल्ड गेम्स एसोसिएशन द्वारा एथलीट ऑफ द मंथ से सम्मानित किया गया। बता दें कि वह उस समय सिर्फ 19 वर्ष की थीं।

वहीं, विश्व चैंपियनशिप में प्रतियोगिता को हासिल करने के बाद, गार्नब्रेट एक ऐसा नाम हुआ, जिस पर न केवल प्रशंसकों की निगाहें उनकी खेलों में जाने पर रहीं, बल्कि प्रतियोगियों पर भी हैं।

ओलंपिक रिजल्ट

और
ओलंपिक रिजल्ट
परिणाम इवेंट खेल

टोक्यो 2020

G
Women's Combined
Women's Combined Sport Climbing